ISRO

Jun 22, 2016

पीएसएलवी-सी34

भारत का ध्रुवीय उपग्रह प्रमोयक राकेट  अपनी 36वीं उड़ान (पीएसएलवी-सी34) के द्वारा भू प्रेक्षण हेतु 727.5 कि.ग्रा. भारवाले कार्टोसैट-2 श्रंखला के  उपग्रह के साथ लगभग 560 कि.ग्रा. भार वाले 19 सहयात्री उपग्रहों को 505 कि.मी. की ध्रुवीय सूर्य तुल्यकाली कक्षा (एसएसओ) में स्थापित करेगा । पीएसएलवी- सी34 का सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) शार, श्रीहरिकोटा के दूसरे लांच पैड (एसएलपी) से प्रक्षेपण किया जाएगा। यह पीएसएलवी की 'एक्सएल' संरूपण में (ठोस स्ट्रैपऑन मोटरों का उपयोग करने वाली) चोदहवीं उड़ान होगी ।

इन सहयात्री उपग्रहों में यूएसए, कैनडा, जर्मनी तथा इंडोनेशिया के उपग्रहों के साथ-साथ भारतीय विश्वविद्यालय/ शैक्षणिक संस्थानों के दो उपग्रह हैं । पीएसएलवी-34 पर ले जाए जाने वाले इन 20 उपग्रहों का कुल वजन लगभग 1288 किग्रा. है ।