ISRO

सितंबर 26, 2016

पीएसएलवी-C35 / स्कैटसैट -1

पीएसएलवी-C35

भारत के ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान के सैंतीसवें उड़ान (पीएसएलवी-C35) में, मौसम से संबंधित अध्ययन के लिए 371 किलो स्कैटसैट -1 और ध्रुवीय सूर्य समकालिक कक्षा (एसएसओ) में सात सह-यात्री उपग्रहों का प्रमोचन किया गया था । सह-यात्री उपग्रहों में अल्जीरिया से अलसैट -1 बी, अलसैट -2 बी, अलसैट-1N, कनाडा से एनएलएस -19 और संयुक्त राज्य अमेरिका से पाथफैंइडर-1 और साथ ही दो उपग्रह एक आईआईटी बॉम्बे का प्रथम और दूसरा पीइएस विश्वविद्यालय, बेंगलुरू का पीसैट रहें।

स्कैटसैट-1 को 720 किलोमीटर ध्रुवीय एसएसओ में रखा जाएगा; जबकि दो विश्वविद्यालयों/शैक्षणिक संस्थान उपग्रहों और पांच विदेशी उपग्रहों को 670 किलोमीटर ध्रुवीय कक्षा में रखा जाएगा। पीएसएलवी का यह पहला मिशन है जिसमें पेलोडों को दो अलग-अलग कक्षाओं में प्रमोचित किया गया था।

पीएसएलवी-C35 को सोमवार, 26 सितंबर, 2016 को सुबह 9:12 बजे (आईएसटी) पर सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र, (एसडीएससी) शार, श्रीहरिकोटा के पहले लॉन्च पैड (FLP) से प्रमोचित किया गया था।