ISRO

उपग्रह नेविगेशन कार्यक्रम

उपग्रह नेविगेशन सेवा वाणिज्यिक और सामरिक अनुप्रयोगों के साथ उभरती हुई उपग्रह आधारित प्रणाली है। इसरो उपग्रह आधारित नेविगेशन सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए नागरिक उड्डयन आवश्यकताओं की उभरते मांगों को पूरा करने हेतु और उपयोगकर्ता को स्थिति, नेविगेशन और समय आधारित स्वतंत्र उपग्रह नेविगेशन प्रणाली की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। नागरिक उड्डयन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, इसरो जीपीएस आधारित भू संवर्धित नौसंचालन (गगन) प्रणाली स्थापित करने में हवाई अड्डा प्राधिकरण(एएआई) के साथ संयुक्त रूप से काम कर रहा है। उपयोगकर्ता के लिए स्वदेशी प्रणाली पर आधारित स्थिति, नेविगेशन और समय सेवाओं की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, इसरो ने भारतीय क्षेत्रीय नौवहन उपग्रह प्रणाली (आईआरएनएसएस) नामक क्षेत्रीय उपग्रह नेविगेशन प्रणाली की स्थापना की है।

जीपीएस आधारित भू संवर्धित नौसंचालन (गगन)

गगन स्थिरता परीक्षण जून, 2013 में सफलतापूर्वक पूरा किया गया । समीक्षा समिति द्वारा प्रणाली के समग्र प्रदर्शन की समीक्षा की गई। प्रमाणीकरण गतिविधि के भाग के रूप में, डीजीसीए कार्मिक ने बेंगलुरु में गगन कॉम्पलेक्स, कुंदलहल्ली का दौरा किया और भारतीय भू अपलिंक केंद्र(INLUS), भारतीय मुख्य नियंत्रण केंद्र (INMCC), भारतीय संदर्भ भू केंद्र (INRES) और अन्य सुविधाओं में अंतिम निरीक्षण गतिविधियों को पूरा किया।

गगन के कार्यान्वयन से विमानन क्षेत्र के लिए कई फायदे हैं, जैसे ईंधन की बचत, उपकरणों की लागत में बचत, उड़ान सुरक्षा,  अंतरिक्ष क्षमता में वृद्धि, क्षमता, विश्वसनीयता की वृद्धि, ऑपरेटरों के लिए काम के बोझ में कमी, हवाई यातायात के लिए समुद्री क्षेत्र की कवरेज पर नियंत्रण, उच्च सटीकता की स्थिति आदि । विमानन क्षेत्र में लाभ की मात्रा इस तरह के सुविधा के उपयोग के स्तर पर निर्भर करेगा।

नागरिक उड्डयन क्षेत्र के लिए गगन के कुछ संभावित लाभ हैं:

  • सुरक्षा लाभ - कार्यक्षेत्र मार्गदर्शन से विशेष रूप से प्रतिकूल मौसम की स्थिति में, सुरक्षा में सुधार

  • चक्कर काटने में कमी

  • पर्यावरणीय लाभ - कार्यक्षेत्र गाइडेंस प्रक्रियाओं के सुगम्यता के साथ बेहतर ऊर्जा और अंतिम अवरोहण प्रोफ़ाइल प्रबंधन में मदद मिलेगी
  • आगमन, प्रस्थान, समुद्रीय और मार्ग सहित उड़ान के सभी चरणों के लिए वैश्विक निरंतरायुक्त नौसंचालन
  • एयरलाइनों को सीधा मार्ग, एकाधिक दृष्टिकोण से काफी ईंधन बचत और हवाई अड्डों और हवाई क्षेत्र की क्षमता में वृद्धि

विमानन क्षेत्र के अलावा, गगन अन्य क्षेत्रों के लिए लाभ प्रदान करता है:

  • रेलवे, रोडवेज, जहाजों, अंतरिक्ष यान में नौसंचालन और सुरक्षा संवर्धन
  • भौगोलिक डेटा संग्रहन

  • वायुमंडलीय अध्ययन के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान

  • भूगतिकी

  • प्राकृतिक संसाधन और भूमि प्रबंधन

  • स्थान आधारित सेवाएं, मोबाइल, पर्यटन, आदि

क्षेत्रीय नौसंचालन उपग्रह प्रणाली (आईआरएनएसएस)

आईआरएनएसएस सेवाओं के दो प्रकार है, अर्थात्,  मानक स्थितिक सेवा (एसपीएस) जो सभी उपयोगकर्ताओं और प्रतिबंधित सेवा (आरएस) प्रदान करती है, जो अधिकृत उपयोगकर्ताओं के लिए निरंतर सेवा प्रदान करती है। प्राथमिक सेवा क्षेत्र में आईआरएनएसएस प्रणाली 20 मीटर से बेहतर सटीकता स्थिति प्रदान करता है।

आईआरएनएसएस से कुछ उपयोग हैं:

  • स्थलीय, हवाई और समुद्री नौसंचालन
  • आपदा प्रबंधन
  • वाहन अनुवर्तन और बेड़ा प्रबंधन
  • मोबाइल फोन के साथ एकीकरण
  • सटीक समय
  • मानचित्रण और भूमिति डेटा प्रग्रहण
  • पादचारी और पर्यटकों के लिए स्थलीय नौसंचालन सहायता
  • ड्राइवरों के लिए दृश्य और आवाज नेविगेशन